Ads (728x90)

दोस्तों के साथ शेयर कीजिये

Advertisement
आंवला बहुत गुणकारी होता है. इसमें विटामिन सी और आइरन काफ़ी मात्रा में पाया जाता है. आंवले को आप चटनी, मुरब्बा या आचार, किसी भी रूप में खाइए, ये आपके लिए बहुत लाभकारी रहेगा. तो आइए इस बार गुणों के ख़ज़ाने, आंवले का आचार बनाएं.

आवश्यक सामग्री:
  • आंवले - 500 ग्राम
  • सरसों का तेल - 200 ग्राम
  • हींग - 1/4 छोटी चम्मच (पिसी हुई)
  • मैथी के दाने - 2 छोटी चम्मच
  • अजवायन - 1 छोटी चम्मच
  • नमक - 50 ग्राम (4 छोटे चम्मच)
  • हल्दी पाउडर - 2 छोटे चम्मच
  • लाल मिर्च पाउडर - 1 छोटा चम्मच से कम
  • पीली सरसों - 4 छोटे चम्मच (मोटी मोटी पिसी हुई)
  • सोंफ पाउडर - 2 छोटे चम्मच
बनाने की विधि:

बाज़ार से अच्छी किस्म के आंवले खरीद लाएं और इन्हें घर लाकर साफ़ पानी में डालकर अच्छे से धो लें. एक बर्तन में 1 1/2 कप पानी लेकर इसे उबलने के लिए रख दें. पानी में उबाल आने पर इसमें सारे आंवले डाल दें और गैस को धीमी कर दें. हमें आंवलों को इतना नरम करना है कि इनकी फांकें की जा सकें. जब आपको लगे कि आंवले इतने नरम हो गए हैं तो गैस बंद कर दें.
आंवलों से सारा पानी हटा कर इन्हें ठंडा कर लें. जब ये ठंडे हो जाएं तो इनकी फ़ांकें निकाल लें और गुठली अलग कर दें.
एक कढा़ई में तेल डाल कर अच्छा गरम करें और फिर गैस बंद कर दें. इस तेल में हींग, मेथी के दाने और अजवायन डाल दें और चम्मच से हल्का चलाते हुए भून लें. अब हल्दी पाउडर, सौंफ़ पाउडर, नमक, लाल मिर्च और पीली सरसों डाल कर सारे मसालों को चलाते हुए अच्छे से मिला लें. तैयार मसालें में आंवले डालें और चलाते हुए मिलाएं. आंवले का आचार बन कर तैयार है.
आचार को अच्छे से ठंडा होने दें. ठंडा होने के बाद इसे किसी कांच के कंटेनर में भर लें. 3-4 दिन तक इसे रोज़ साफ़ और सूखे चम्मच चलाकर ऊपर-नीचे ज़रूर करते रहें. आप चाहें तो आंवले के आचार को अभी खा सकते हैं लेकिन 3-4 दिन में सारे मसालों का स्वाद इसमें भर जाएगा और आचार बेहद स्वादिष्ट हो जाएगा. अगर आप चाहते हैं कि ये आचार ज़्यादा समय तक ठीक रहे तो आवलों को तेल में डुबा कर रखें.
आंवले का स्वादिष्ट आचार तैयार है. जब भी आपका मन इसे खाने का करे तो बस इसे कंटेनर से निकालें और खा लें. ये आचार साल भर तक आराम से चलेगा.

ध्यान दें:

आचार बनाते समय इस्तेमाल होने वाले सारे बर्तन साफ़ और सूखे होने चाहिएं. ज़रा से नमी और गंदगी भी आचार को खराब कर सकती है.
जिस कंटेनर में आप आचार भरने वाले हैं उसे उबलते पानी से अच्छे से धो लें और फिर धूप में या अवन में सुखा लें.
आचार को निकालने के लिए हमेशा साफ़ और सूखे चम्मच का इस्तेमाल करें. हफ़्ते में एक बार इसे चम्मच से चलाकर ऊपर-नीचे भी ज़रूर कर दें.
अगर 2-3 महीनों में आचार को एक दिन की धूप लगवा दी जाए तो इसका स्वाद बना रहता है और आचार ज़्यादा समय तक ठीक भी रहता है.
Advertisement

शेयर कीजिये : Comment Now

loading...

यहाँ अपना कमेंट करें -

एक टिप्पणी भेजें