Ads (728x90)

दोस्तों के साथ शेयर कीजिये

Advertisement

– पनीर को नर्म रखने के लिए उसे तलने के बाद गरम पानी में डालें। इसके बाद ही उसे सब्जी में मिलाएँ और हल्का पकाएँ।

– पालक पनीर बनाने से पहले पालक की पत्तियों को एक चम्मच चीनी वाले पानी में आधे घंटे तक भिगोकर रखें, अधिक स्वादिष्ट बनेगा।

– अगर आलू को ‍छीलकर काटें और पानी में एक चम्मच सिरका डालकर उबालें तो आलू अपेक्षाकृत जल्दी उबलेंगे और टूटेंगे नहीं।

– बची हुई इडली और डोसे के घोल को अधिक देर तक ताजा रखने के लिए उस पर पान का एक पत्ता रख दें।

– आलू की कचौड़ी बनाते समय मसाले में थोड़ा बेसन भूनकर डाल दें। इससे कचौड़ी को बेलना आसान होता है और स्वाद भी बढ़ता है।

– कटहल में यदि बीज हो तो इन्हें फेंकिए नहीं, इकट्ठा करती रहें। पानी से अच्छी तरह धोकर, उबालकर छील लें। इन बीजों की रसेदार-मसालेदार सब्जी बना लें या फिर बेसन में मसलकर पकौड़े बना लें। ये बलवर्द्धक, दस्त रोकने वाले और मूत्र अवरोध दूर करते हैं।

– नींबू या संतरे के छिलकों को फेंके नहीं, धूप में सूखाकर बारीक पीस लें। इस चूर्ण से कुल्ला करने से मुंह साफ होता है।

– पनीर बनाने के बाद जो पानी बचता है वह हल्का और शीघ्र पचने वाला होता है। बच्चे को दस्त लगे हों तो उसके लिए यह अति उत्तम रहेगा। इसके अलावा इस पानी से आटा गूंथा जा सकता है या दाल-चावल में इस पानी को डाला जा सकता है।

– खुशबूदार चावल बनाने हों तो बनाते समय उसमें दालचीनी का छोटा-सा टुकड़ा डाल दें।

– ब्रेड के दोनों ओर मक्खन लगाकर सेंकें। इसका स्वाद और करारापन खाने पर ही पता लगेगा।
Advertisement

शेयर कीजिये : Comment Now

loading...

यहाँ अपना कमेंट करें -

एक टिप्पणी भेजें